Tuesday, October 1, 2019

Science: जयपुर में बनेगी रोबोटिक्स लैब, स्टूडेंट्स भी बना सकेंगे साइंस मॉडल्स

Science: साइंस के टिपिकल मॉडल्स को अब स्टूडेंट्स आसानी से समझ सकेंगे। स्टूडेंट इन मॉडल्स को खुद ही बनाकर प्रयोग भी कर सकेंगे। यह सब संभव होगा शास्त्री नगर स्थित क्षेत्रीय विज्ञान केंद्र में। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) की ओर से कक्षा 8वीं से 12वीं तक के स्टूडेंट्स को नि:शुल्क सुविधा दी जाएगी।

ये भी पढ़ेः रोबोटिक इंजीनियरिंग सहित फॉरेन कोर्स की बढ़ रही है डिमांड, दिलाते हैं लाखों का पैकेज

ये भी पढ़ेः बनें फाइनेंशियल एडवाइजर, शानदार कॅरियर के साथ कमाएंगे शानदार इनकम

जानकारी के अनुसार विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, राजस्थान सरकार और नेशनल काउंसिल ऑफ साइंस म्यूजियम की ओर से यह प्रोजेक्ट एक करोड़ रुपए का है। क्षेत्रीय विज्ञान केंद्र को प्रोजेक्ट की यह रकम मिल चुकी है। प्रोजेक्ट के तहत 3000 स्क्वायर फीट में इनोवेशन हब तैयार किया गया है, जिसमें विज्ञान से जुड़ी गतिविधियां करवाई जाएंगी।

ये भी पढ़ेः Professional Course - Accupressure थैरेपी में बनाएं कॅरियर, घर बैठे कमाएंगे लाखों

ये भी पढ़ेः Learn German Language - आइए जर्मन भाषा सीखें

विशेषज्ञों की होगी नियुक्ति
विभाग से मिली जानकारी के अनुसार यदि स्टूडेंट्स के पास कोई इनोवेटिव आइडिया है और वे इस पर काम करना चाहते हैं। लेकिन गाइडेंस की कमी है, तो स्टूडेंट्स की मॉडल बनाने में मदद करने के लिए डीएसटी की ओर से विशेषज्ञों की नियुक्ति की जाएगी।

इन क्षेत्रों में कर सकेंगे काम
स्टूडेंटस के लिए भौतिक शास्त्र, रसायन शास्त्र, जीव विज्ञान के साथ रोबोटिक्स लैब तैयार की जाएंगी, जहां वे काम कर सकेंगे। उन्हें इन लैब्स में इनोवेटिव आइडियाज पर प्रैक्टिकल करने का मौका मिलेगा।

मैकेनिज्म की समझ
यह सेक्शन स्टूडेंट्स के लिए खास होगा। अभी तक विद्यार्थी फ्रीज, साइकल, प्रेस, हीटर, वॉशिंग मशीन, ओवन और मोबाइल के मैकेनिज्म को किताबों में ही पढ़ते थे, लेकिन इस सेक्शन में उन्हें प्रैक्टिकल करने का मौका दिया जाएगा। इस दौरान इन उपकरणों को खोलकर वापस फिर से बनाना होगा। इस एक्टिविटीज से स्टूडेंट्स को मशीनों का मैकेनिज्म समझ आएगा।

विज्ञान में रूचि जगाने के उद्देश्य से स्टूडेंट्स के लिए यह व्यवस्था शुरू की जाएगी। इसमें विद्यार्थी अपने आइडियाज को क्षेत्रीय विज्ञान केंद्र में आकर मूर्त रूप दे सकेंगे।
- कैलाश मिश्रा, क्यूरेटर, क्षे. विज्ञान केंद्र



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/2nnjPa7
Previous Post
Next Post

post written by:

0 Comments: